loading...
loading...

बॉम्बे हाई कोर्ट की औरंगाबाद बेंच ने तब्लीगी जमातियों के खिलाफ दाखिल एफआईआर को खारिज कर दिया है. हाई कोर्ट ने तब्लीगी जमात से जुड़े गैरमुल्की शहरियों के खिलाफ दाखिल FIR को खारिज करते हुए कहा,”एक सियासी हुकूमत उस वक्त बलि का बकरा ढूंढने की कोशिश करती है, जब वबा या मुसीबत आती है और हालात बताते हैं कि इन गैरमुल्कियों को बलि का बकरा बनाने के लिए चुना गया था।

loading...

और इस देश की मीडिया उन्हें आतंकवाद घोषित करने पर तुले थे। मौलानाओं ने बिरियानी माँगा , इस खबर का सूत्र कौन था? मौलानाओं ने अर्धनग्न होकर नर्सों को घूरा , इस खबर का सूत्र कौन था ? मौलानाओं ने थूका , इस खबर का सूत्र कौन था ?मौलानाओं ने नर्सों के सामने पेशाब किया।

दरअसल इनका सुत्र कौन रहता है यह करते हुए अंजना ने देखा या रूबिका ने ? सुधीर ने देखा या दीपक ने ? मेरी समझ में नहीं आता कि अपने घर में बहन बेटी रखने वाले यह पत्रकार किस मुँह से किसी पर झूठा आरोप लगाकर उनका चरित्रहनन करते हैं और फिर अपनी बहन बेटी का सामना करते हैं ?