loading...
loading...

बीजेपी हमेशा गुजरात मॉडल की बात करती है मगर गुजरात सरकार द्वारा पेश की गई रिपोर्ट साफ बता रहा है कि किस तरह प्रदेश में महिलाओं पर हिंसा बढ़ रहा है। इस रिपोर्ट के आने बाद हर व्यक्ति आश्चर्यचकित है।

गौरतब है कि गुजरात विधानसभा में सरकार की ओर से पेश की गई रिपोर्ट में महिला-अत्याचार से जुड़ा झकझोर देने वाला खुलासा हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार, राज्य में पिछले 5 साल में हर 7 घंटे में एक महिला से बलात्कार हुआ है।

यहां 1 जुलाई 2014 से 30 जून 2019 के दौरान कुल 6116 दुष्कर्म की शिकायतें दर्ज की गईं। राज्य में दुष्कर्म की सर्वाधिक वारदातें अहमदाबाद शहर में सामने आईं। सरकारी आंकड़ों का औसत निकालें तो अहमदाबाद शहर में हर दूसरे दिन में महिला से दुष्कर्म की एक शिकायत दर्ज होती है। यानी, यहां रोज कहीं-न-कहीं बलात्कार होता है। पिछले 5 सालों में दुष्कर्म के 860 मामले अहमदाबाद में ही दर्ज हुए।

loading...

5 सालों में गुमशुदगी की 26907 शिकायतें दर्ज हुईं
राज्य सरकार द्वारा विधानसभा में विगत फरवरी माह में भी महिला अत्याचार, किडनैपिंग एवं दुष्कर्म से जुड़े आंकड़ों की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी। जिसमें खुलासा हुआ कि बीते पांच वर्षों में यहां 26,907 महिलाएं गुम हो गईं। करीब 8 हजार किडनैप कर ली गईं और 4 हजार से ज्यादा ने रेप की शिकायत दर्ज कराई।

छेड़छाड़ के मामले भी गुजरात में तेजी से बढ़े हैं। पिछले 5 वर्षों में यहां 5970 महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की घटनाएं सामने आईं। यह खुलासा भी राज्य के गृह विभाग के आधिकारिक आंकड़ों से हुआ। एक ओर राज्य सरकार का दावा है कि गुजरात में अपराध दर में कमी आई है, लेकिन फिर भी ऐसे अपराध काबू से बाहर हैं।

औसतन 2 महिलाएं रेप का शिकार होती हैं, जबकि, कम से कम 14 महिलाएं गुम होती हैं। गुम होने वाली महिलाओं में ज्यादातर की मौत होने की जानकारी सामने आई। राज्य के कई शहरों में ​महिलाओं के सामूहिक रूप से आत्महत्या किए जाने की खबरें आती हैं। , इस रिपोर्ट के आने बाद हर व्यक्ति आश्चर्यचकित है।