loading...
loading...

उत्तरप्रदेश: के लखनऊ में एक शर्मनाक घटना सामने आई है,3 साल के मासूम के साथ रेप कर सड़क पर फेंक दिया, जहां पर रेप पीड़ित मासूम बच्ची को कोरोना संक्रमण के चलते अस्पताल में इलाज मिलना बेहद मुश्किल हो गया। कोई भी डाक्टर उस बच्ची को इलाज नहीं किया गंभीर हालात में बच्ची के माता-पिता उसे एंबुलेंस में लेकर दर-दर भटक ते रहे. हरदोई से लखनऊ पहुंचे माता-पिता को उम्मीद थी कि यहां पर उनकी बच्ची को सही इलाज मिल जाएगा. लेकिन कई जगह भटकने के बावजूद रातभर इलाज नहीं मिल पाया।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के जिला हरदोई की रहने वाली तीन साल की मासूम बच्ची के साथ उसके सगे ताऊ ने रेप किया. बच्ची को इलाज के लिए परिजन लखनऊ में केजीएमसी हॉस्पिटल, सिविल हॉस्पिटल और लोहिया हॉस्पिटल पहुंचे. लेकिन डॉक्टरों ने बच्ची को इलाज करने से मना कर दिया. पीड़ित परिजनों को बोला गया कि कोरोना वायरस के चलते बच्ची को अस्पताल में भर्ती नहीं किया जा सकता है। इस बात से पता चलता है कि योगी सरकार में उत्तर प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था किस कदर खराब हो चुकी है। आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है अक्सर उत्तर प्रदेश में हत्या रेप जैसे गुनाह होते रहते हैं और सरकार इन पर कोई कार्रवाई नहीं करती है।

loading...

बीते कुछ दिनों पहले एक पत्रकार की भांजी को छेड़ने के आरोप में जब पत्रकार रिपोर्ट लिखवाने गया। तो दूसरे दिन उस बदमाशों ने पत्रकार पर दिनदहाड़े गोली चला दी थी लेकिन फिर भी यूपी पुलिस कुछ नहीं कर पाइ यहां पर अपराधियों का बोलबाला है यहां सारे आम मडर कर दिए जाते हैं जैसे मानो कोई हकीकत नहीं फिल्म का सेट हो जैसे फिल्मों में देखा जाता है की गुंडे खुलेआम घूमते हैं दादागिरी करते हैं वैसे बिल्कुल अभी इस समय उत्तर प्रदेश में हो रही है।

और यह सब उत्तर प्रदेश की कमजोर सरकार के कारण है। और ऐसा हो भी क्यों न जब सरकार ही अपराधी चलाते हैं तो अपराध का बोलबाला तो होगा ही मैं ऐसा इस लिए कह रहा हूं कि उत्तर प्रदेश में ज्यादातर बीजेपी नेता या तो उस पर मर्डर का केस चल रहा है या रेप का केस चल रहा है ऐसे लोगों के हाथ में अगर सरकार दी जाए तो ऐसे ही अपराध होंगे।